2015          I               2014          I           2013
2014
1. आंध्र प्रदेश हिंदी अकादमी, हैदराबाद ने दिनांक 25 जनवरी,2014 को आंध्र के प्रमुख प्रजा कवि पद्मविभूषण डॉ.कलोजी नारायण राव की पुस्तक ‘ना गोडव’ का हिंदी अनुवाद एवं अकादमी द्वारा प्रकाशित ‘मेरी आवाज’ पुस्तक लोकार्पण समारोह का आयोजन किया है. इसमें अकादमी के निदेशक डॉ.के.दिवकरा चारी जी ने इस समारोह की अध्यक्षता की है. उन्होंने अपने भाषण में कहा है कि अकादमी के लक्ष्यों के अंतर्गत प्रमुख प्रजा कवि कलोजी नारायण राव जी की 100 कविताओं को हिंदी में अनुवाद करवाकर प्रकाशित किया है. प्रमुख सिनेमा निदेशक एवं वरंगल के कलोजी शत-जयंती उत्सव समिति के संरक्षक श्री बी.नरसिम्हा राव मुख्य अथिति के रूप पधारे हैं. इस सन्दर्भ में आपने कहा कि कलोजी के साहित्य के महत्व को उजागर किया है. आंध्र के प्रमुख क्रांतिकारी कवि श्री वरवर राव जी विशिष्ट अथिति रहें. उन्होंने कहा कि विश्व आंदोलनों का कालोजी पर गहरा छाप छोड़ा है. समाज में विविध विपदाओं, शोषणों से शोषित जनता का पक्ष लेकर, उनकी समस्याओं को अपनी समस्या मानकर कलोजी ने कलम चलाई है. कालोजी का साहित्य आज के इस दौर में बहुत प्रासंगिक है. इस महत्वपूर्ण कार्य के लिए मै हिंदी अकादमी को बधाई देता हूँ. श्री एस.जीवन कुमार, श्री निखिलेश्वर, श्री वी.आर.विद्यार्थी समारोह के प्रमुख वक्ता रूप में भाग लिया है.
2. दिनांक 26 फरवरी, 2014 बुधवार के शाम 5 बजे आंध्र प्रदेश हिंदी अकादमी, हैदराबाद के द्वारा प्रकाशित त्रैमासिक पत्रिका ‘साहित्य-सेतु’ का प्रवेशांक का लोकार्पण डॉ.राधेश्याम शुक्ल के हाथों से हुआ है. उन्होंने अपने भाषण में कहा है कि लंबे समय के पश्चात् अकादमी का यह सपना साकार हुआ है. अकादमी के निदेशक डॉ.के.दिवकरा चारी ने कहा कि हमें ‘साहित्य-सेतु’ पत्रिका का प्रारंभ करते हुए अत्यंत प्रसन्नता हो रही है. ‘साहित्य-सेतु’ पूरे आंध्र प्रदेश में सरकार के द्वारा चलाने वाली एक ही हिंदी पत्रिका होगी. संपादक डॉ.बी.सत्यनारायण ने आशा जतलाई है कि भारत के विभिन्न संस्कृतियों को जोड़ने में तथा समूचे हिंदुस्तान को एक राह पर चलाने में यह पत्रिका मददगार हो सकती है. इस कार्यक्रम में प्रो.ऋषभ देव शर्मा, डॉ.एम.वेंकटेश्वर, डॉ.टी.मोहन सिंग, डॉ.पी.माणिक्याम्बा आदि ने भाग लिया.   
3. आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी की 15० वीं जयंती के अवसर पर दिनांक 21 जून 2014 को डॉ.राधेश्याम शुक्ल का व्याख्यान आयोजित.
4. दिनांक 14 अगस्त, 2014 को हिंदी कवि सम्मलेन आयोजित हुआ है, जिसमें शहर के छः प्रमुख कवियों ने भाग लिया है.
5. दिनांक 27 सितंबर, 2014 को 'हिंदी दिवस (14, सितंबर, 2014) के उपलक्ष्य में 'भारतीय संस्कृति : हिंदी' विषय पर डॉ.पी.आर.घनाते के व्याख्यान का आयोजन किया गया है.

 

1

2

3

4